चारित्र आत्माओं का मिलन समारोह हुआ आयोजित, समाजजन बने इस पल के साक्षी….

पेटलावद। तेरापंथ धर्म संघ में गुरु के निर्देश के प्रति साधु-साध्वियों के मन में निष्ठापूर्वक समर्पण का भाव होता है, गुरु की कृपा और अनुकंपा से शिष्य को कठिनाइयों में भी रास्ता मिल जाता है।
उक्त आशय के उदगार श्री जैन श्वेतांबर तेरापंथ धर्मसंघ के 11वें अनुशास्ता आचार्य श्री महाश्रमण जी की सुशिष्या शासनश्री साध्वी श्री मधुबालाजी ने साध्वी श्री पुण्ययशाजी आदि ठाणा 4 के आगमन पर आयोजित मिलन समारोह पश्चात स्वागत कार्यक्रम में श्रावक श्राविकाओं के समक्ष व्यक्त किए।

आपने कहा साध्वी श्री पुण्ययशाजी भयंकर गर्मी में शारीरिक कठिनाई के पश्चात भी दृढ़ मनोबल पूर्वक और गुरु के निर्देशों के प्रति समर्पण भाव से अपने गंतव्य की ओर निरंतर गतिमान है, यह तेरापंथ धर्म संघ की विरल विशेषता है।

गौरतलब है कि आचार्यश्री ने साध्वीश्री पुण्ययशाजी आदि ठाणा 4 का इस वर्ष का चतुर्मास झकनावदा फरमाया है, आपश्री भीलवाड़ा से यात्रा करते हुए यहाँ पधारे है।

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में साध्वी श्री विज्ञानश्री जी ने कहा यह भिक्षुशासन अर्थात तेरापंथ धर्मसंघ और गुरु की पुण्याई हैं कि हमें इस तरह के अमृत सिंचन रूपी मिलन समारोह को देखने का अवसर प्राप्त हो रहा है।
साध्वी श्री साध्वी श्री पुण्ययशाजी ने कहा जहां विवेक, अनुशासन, मर्यादा, समर्पण, एक आचार एक विचार और एक आचार्य का अनुशासन होता है वहां तेरापंथ है, हमें आज रत्नाधिक साध्वी श्री के दर्शनों का सौभाग्य प्राप्त हो रहा है। आपने कहा कि जहां सुसंस्कार होते हैं वहां लक्ष्मी, कीर्ति और बुद्धि स्वयं चले आते हैं।

गौरतलब है कि पेटलावद में पूर्व से प्रवासित साध्वियां आज प्रातः करडावद से पधार रहे साध्वी पुण्ययशाजी आदि ठाणा 4 की अगवानी में करडावद रोड पर पधारे, साथ ही श्रावक -श्राविकाएं भी आगवानी में पधारे।

आध्यात्मिक मिलन का यह दृश्य श्रावक श्राविकाओ ने अपनी आंखों से देखकर धन्यता का अनुभव किया।

इस अवसर पर साध्वी श्री सौभाग्य श्रीजी, साध्वी श्री मंजुलयशाजी, साध्वी प्रदीपप्रभाजी आदि ठाणा-4 ने गीत व भाववूर्ण शब्दो, महिला मंडल ने भी मधुर गीत द्वारा साध्वी वृंद का स्वागत किया।

आज के स्वागत कार्यक्रम में साध्वी श्री प्रदीपप्रभा जी, तेरापंथी सभा के अध्यक्ष मनोज गादिया, तेरापंथ कन्या मंडल संयोजिका दीपिका मूणत, महिला मंडल की ओर से पुष्पा पालरेचा, पारसमल कोटडिया(रायपुरिया) दर्शन भंडारी (वापी) ने भी अपने भावों को अभिव्यक्ति दी।

कार्यक्रम का संयोजन तेरापंथी सभा के मंत्री राजेश वोरा ने किया, उक्त जानकारी तेरापंथी सभा के मीडिया प्रभारी पियुष पटवा द्वारा दी गई।

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!